माननीय मुख्यमंत्री,झारखंड सरकार श्री हेमंत सोरेन आज दिनांक 26 मई 2020 को बोकारो के बेरमो प्रखंड पहुंचे जहां पर उन्होंने बेरमो विधायक सह- पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्री राजेंद्र प्रसाद सिंह के पार्थिव शरीर पर माल्यार्पण कर उनकी आत्मा की शांति हेतु प्रार्थना की |.

उन्होंने कहा कि झारखंड के गरीबों तथा मजदूरों की आवाज थे स्वर्गीय राजेंद्र प्रसाद सिंह। उनके निधन पर पूरे झारखंड में शोक की लहर है। हम सभी ने अपना एक राजनैतिक अभिभावक खो दिया है, जो लगातार मार्गदर्शन कर झारखंड के विकास में अपनी सहभागिता निभाते थे। माननीय मुख्यमंत्री ने बताया कि धनबाद के कोयला क्षेत्रों में मजदूरों की आवाज थे श्री राजेंद्र प्रसाद सिंह, कांग्रेस नेता के वरिष्ठ नेताओं में से श्री राजेंद्र प्रसाद सिंह की छवि झारखंड के अग्रिम नेताओं में से एक रही है। उन्होंने बेरमो, फुसरो तथा धनबाद के कोयलरी क्षेत्र के मजदूरों के लिए आजीवन कार्य करते हुए उनकी आवाजों को सरकार तक पहुंचाने का काम किया।

स्व० राजेन्द्र प्रसाद सिंह बेरमो स्थित दामोदर नदी तट पर पंचतत्व में विलीन हो गए। दिवंगत के अंतिम यात्रा में कई गणमान्य तथा उनके चाहने वाले एवं परिवार के सदस्य शामिल हुए। ससम्मान दिवंगत को दी गई अंतिम विदाई। श्री सिंह के पार्थिव शरीर को तिरंगा में लिपटे श्री सिंह के पार्थिव शरीर को मुखाग्नि के पूर्व गार्ड ऑफ ऑनर राष्ट्रीय सम्मान प्रदान किया गया । इस अवसर पर सशस्त्र बल के जवानों ने मातमी धुन बजाया और 21 राईफलो की सलामी दी। राईफलो से गार्ड ऑफ ऑनर दिया और राजकीय सम्मान के साथ स्वर्गीय सिंह के पार्थिव शरीर को चिता पर लिटाया गया। उनके जेष्ठ पुत्र कुमार जय मंगल सिंह ने अपने पिता को मुखाग्नि दी |     


वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व मंत्री स्व० राजेन्द्र प्रसाद सिंह के पार्थिव शरीर पर दिसोम गुरु एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिबू सोरेन तथा माननीय मुख्यमंत्री के धर्मपत्नी श्रीमती कल्पना सोरेन ने माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। दिसोम गुरु श्री शिबू सोरेन ने कहा कि राजेंद्र बाबू एक कार्य कुशल एवं सामाजिक नेता थे। वह मजदूरों के नेता थे। मजदूरों के हित का ख्याल रखते थे। उनकी कमी हमेशा महसूस की जाएगी। स्व० राजेंद्र प्रसाद सिंह के पार्थिव शरीर का दर्शन करने के लिए हुजूम उमड़ पड़ा। सोमवार देर शाम पूर्व मंत्री का पार्थिव शरीर दिल्ली से बेरमो लाया गया। बेरमो के ढोरी स्थित आवास पर पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। स्व० राजेन्द्र प्रसाद सिंह को झारखंड सरकार के स्वास्थ्य मंत्री श्री बन्ना गुप्ता, कृषि मंत्री श्री बादल, बरकाकाना विधायक सुश्री अम्बा प्रसाद, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार श्री अभिषेक प्रसाद समेत उपस्थित अनेकों गणमान्यों ने नमन कर श्रद्धांजलि अर्पित की।



उपायुक्त श्री मुकेश कुमार तथा पुलिस अधीक्षक श्री चंदन कुमार झा ने दिवंगत वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व मंत्री तथा बेरमो विधायक स्व० राजेन्द्र प्रसाद सिंह के पार्थिव शरीर पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। माननीय मुख्यमंत्री के आगमन के अवसर विधि व्यवस्था दुरुस्त किया गया था। प्रशासन की टीम दिवंगत के पैतृक निवास पर मुस्तैद रही। उप विकास आयुक्त श्री रवि रंजन मिश्रा, अपर समाहर्ता श्री विजय कुमार गुप्ता तथा अनुमंडल पदाधिकारी बेरमो तथा पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय, पुलिस उपाधीक्षक ट्रैफिक ने विधि व्यवस्था में अहम भूमिका निभाई।
बेरमो स्थित दामोदर नदी तट पर दिवंगत हुए पंचतत्व में विलीन ० राजेन्द्र प्रसाद सिंह बेरमो स्थित दामोदर नदी तट पर पंचतत्व में विलीन हो गए। दिवंगत के अंतिम यात्रा में कई गणमान्य तथा उनके चाहने वाले एवं परिवार के सदस्य शामिल हुए। ससम्मान दिवंगत को दी गई अंतिम विदाई।       

आपको बता दे कि झारखंड के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता, पूर्व मंत्री और बेरमो के वर्तमान विधायक राजेंद्र प्रसाद सिंह का निधन रविवार को दिल्ली में इलाज के दौरान हो गया। फेफड़े में फंगल इन्फेक्शन की शिकायत के बाद उन्हें रांची के बरियातु स्थित रामप्यारी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। इसके बाद उन्हें बेहतर ईलाज के लिए एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली ले जाया गया था ।

राजेंद्र सिंह झारखंड के पूर्व वित्त एवं स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं। वे बेरमो विधानसभा में छठी बार प्रतिनिधित्व कर रहे थे। उन्होंने बेरमो विधानसभा सीट से भाजपा के योगेश्वर महतो को 25172 मतों से हराया था । 1985 से 2005 तक लगातार 20 साल कांग्रेस के टिकट पर राजेंद्र सिंह यहां के विधायक बनते रहे थे । 2005 में हार के बाद 2009 में उन्होंने फिर इस सीट से जीत दर्ज की थी । फिर 2014 में हार के बाद 2019 में उन्होंने इस सीट से छठी बार जीत दर्ज की थी ।

राजेन्द्र प्रसाद सिंह कोल् सेक्टर के बड़े नेता माने जाते थे। बिहार में दो बार मंत्री के अलावा झारखण्ड में 2014 में हेमन्त सोरेन सरकार में ऊर्जा, स्वास्थ्य,वित्त और सांसदीय कार्य मंत्री रह चुके थे । वर्तमान सिंह इंटक के राष्ट्रीय महामंत्री भी थे। तीन साल पहले दिल्ली में इंटक के राष्ट्रीय अधिवेशन के दौरान ब्रेन स्ट्रोक लगा था। उस वक़्त अधिवेशन में राहुल गांधी व मनमोहन सिंह भी मंच पर मौजूद थे ।